खाने के तेलों पर इंपोर्ट ड्यूटी में भारी बढ़ोतरी

सोयाबीन, सरसों और मूंगफली के किसानों की मदद के लिए सरकार ने खाने के तेलों पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाकर दोगुना कर दिया है। अब खाने के कच्चे तेल पर कम से कम 25-30 फीसदी, जबकि रिफाइंड तेलों पर 35 फीसदी से 40 फीसदी तक इंपोर्ट ड्यूटी देनी पड़ेगी। दरअसल खाने के तेलों के भारी इंपोर्ट से घरेलू बाजार में सोयाबीन की कीमतें लगातार मिनिमम सपोर्ट प्राइज से नीचे चल रहीं हैं। पिछले साल की तरह इस साल भी देश में सोयाबीन की भारी पैदावार है। वहीं सरसों की बुवाई शुरू हो गई है। इससे पहले अगस्त में खाने के तेलों पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ी थी। लेकिन इसका ज्यादा असर तिलहन की कीमतों पर नहीं दिख सका।

Indian Mayor Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *